अब ऑनलाइन दर्ज होगी विद्यार्थियों की उपस्थिति: एकेटीयू - SARKARI RESULT | सरकारी रिजल्ट UP | SARKARI RESULT IN HINDI | SARKARI RESULT UP

04 August, 2017

अब ऑनलाइन दर्ज होगी विद्यार्थियों की उपस्थिति: एकेटीयू

अब ऑनलाइन दर्ज होगी विद्यार्थियों की उपस्थिति: एकेटीयू:-


लखनऊ : डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) से संबद्ध करीब 650 इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट कॉलेजों में पढ़ने वाले चार लाख से अधिक विद्यार्थियों की अब ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज होगी। यह
व्यवस्था वर्तमान शैक्षिक सत्र 2017-18 से ही लागू होगी। इसके लिए ऑनलाइन वेब पोर्टल बनेगा। विद्यार्थियों की बायोमीटिक उपस्थिति को आधार नंबर से लिंक किया जाएगा। शिक्षक भी अपनी उपस्थिति टाइम टेबल के अनुसार क्लास में ही दर्ज करवाएंगे। 1 वहीं ऐसे इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट कॉलेज जो अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं उन्हें खुद एकेटीयू अपने स्तर से बंद करेगा। इसके लिए नियमों में संशोधन किया जाएगा। कुलपति के तौर पर दो वर्ष का कार्यकाल शुक्रवार को प्रो. विनय कुमार पाठक ने पूरा किया। इस मौके पर आयोजित पत्रकार वार्ता में उन्होंने विद्यार्थियों के लिए शुरू होने वाली नई योजनाओं की जानकारी दी। प्रो. पाठक ने बताया कि ऐसे इंजीनियरिंग कॉलेज जहां पर छात्र बहुत कम हैं, उन्हें बंद करने के लिए नई नीति जल्द तैयार होगी। आगामी कार्यपरिषद की बैठक में इसे पास करवाया जाएगा। एकेटीयू ऐसे कॉलेजों पर आर्थिक दंड भी लगाएगा। अब कॉलेजों में गुणवत्तापरक पढ़ाई हो इसकी मॉनीटरिंग की जाएगी। रिजल्ट की भी मॉनीटरिंग होगी। अब ट्रेनिंग व प्लेसमेंट पर ज्यादा जोर होगा। कोर्सेज का अपग्रेडेशन होगा। 1विश्वविद्यालय के संस्थानों में आपस में कोलैबरेटिव टीचिंग-लर्निग का वातावरण सृजित किया जाएगा। सभी सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों में संपूर्ण कार्य ऑनलाइन होंगे। सभी संस्थानों में फ्री वाई-फाई इंटरनेट की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। रिसर्च को बढ़ावा देने के लिए विक्रम साराभाई स्कीम शुरू की गई है। इसमें शोध छात्रों व शिक्षकों को प्रति महीना तीन वर्ष तक 40 हजार रुपये मिलेंगे। इसके अलावा विश्वैश्वरैया रिसर्च प्रमोशन स्कीम भी शुरू की गई है। 1ग्लोबल इंस्टीट्यूट प्रकरण के लिए जांच कमेटी : ग्लोबल इंस्टीट्यूट को प्रोग्रेसिव क्लोजर यानी धीरे-धीरे बंद करने की मोहलत नियमानुसार दी गई है। अब उसमें कोई नया दाखिला नहीं होगा। जो विद्यार्थी पहले से पढ़ रहे हैं उन्हें कोर्स पूरा करवाकर ही कॉलेज बंद होगा। अचानक बंद होने की जो शिकायत हुई है उसकी जांच के लिए प्रो. कुलदीप सहाय की अध्यक्षता में कमेटी बनाई गई है। 1सभी सुविधाएं ऑनलाइन : कुलपति ने बताया कि विद्यार्थियों के लिए सारी सुविधाएं ऑनलाइन हैं। वह शिकायत दर्ज करवाने से लेकर डिग्री व मार्कशीट तक सब ऑनलाइन हासिल कर सकते हैं। इसके अलावा परीक्षा में पहले प्रश्नपत्र लीक होने के मामले आते थे। ऐसे में अब ऑनलाइन प्रश्नपत्र परीक्षा केंद्रों पर भेजे जा रहे हैं और कॉपियां भी ऑनलाइन ही जांची जा रही हैं। 1’>>खराब प्रदर्शन करने वाले इंजीनियरिंग कॉलेजों को बंद करेगा एकेटीयू, बनेंगे नए नियम1’>>कुलपति प्रो. विनय पाठक के कार्यकाल के दो वर्ष पूरे, रिसर्च पर होगा फोकस 120 हजार सीटें भरना कोई गलत नहीं 1कुलपति से जब पूछा गया कि इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट कॉलेजों में सीटें 1.64 लाख हैं और पांचवें राउंड की काउंसिलिंग के बावजूद दाखिले 20 हजार के आसपास हो रहे हैं? इस पर उन्होंने कहा कि अभी डायरेक्ट एडमिशन से और सीटें भरेंगी। मुख्य मुकाबला तो सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों और टॉप प्राइवेट कॉलेजों में सीटों के लिए ही होता है। ऐसे में जो कॉलेज अच्छा प्रदर्शन करेंगे वह टिक पाएंगे, बाकी बंद होंगे। 1