‘बेसिक’ सुधारने शिक्षक आ रहे संग, विदेशियों को प्रभावित कर रहे बेसिक के शिक्षक - SARKARI RESULT | सरकारी रिजल्ट UP | SARKARI RESULT IN HINDI | SARKARI RESULT UP

25 February, 2018

‘बेसिक’ सुधारने शिक्षक आ रहे संग, विदेशियों को प्रभावित कर रहे बेसिक के शिक्षक

‘बेसिक’ सुधारने शिक्षक आ रहे संग, विदेशियों को प्रभावित कर रहे बेसिक के शिक्षक:-

बरेली : बोर्ड परीक्षा में ‘सवाल’ बनी बेसिक शिक्षा को लेकर इन दिनों बेशक हल्ला मचा है लेकिन, कुछ शिक्षक शिद्दत से उसका हाल सुधारने का रास्ता खोजने में जुटे हैं। कोशिश, पढ़ाई का ‘बेसिक’ सुधारने की है। सहारा तकनीक को बनाया है जिसके जरिए ऑनलाइन ‘गुरुकुल’ प्लेटफार्म तैयार किया है। नाम दिया है- प्रोफेशनल लर्निग कम्युनिटी (पीएलसी)। इसमें देश ही नहीं बल्कि विदेश के भी तमाम शिक्षक जुड़े हैं, जो पढ़ाई में सुधार को लेकर अपने आइडयिा और विजन साझा करते हैं। बच्चों को बेहतर ढंग से पढ़ाने के प्रयोग पर सवाल-जवाब होते हैं। सुधार के लिए बेहतर सुझाव दिए जाते हैं।
यह पहल भी प्रशिक्षु शिक्षकों का गूगल ग्रुप बनाकर उनके पढ़ाने का ढंग बदलने वाली डायट प्रवक्ता डॉ. शिवानी यादव की है। पिछले साल 24 अप्रैल को गुरुकुल पीएलसी नाम से फेसबुक आइडी शुरू की। इसके बाद फेसबुक पेज बनाया, यूट्यूब चैनल तैयार किया और फिर बेवसाइट बनाई। इस मकसद के साथ कि अधिक से अधिक शिक्षकों को जोड़कर बेसिक की दशा सुधारने के लिए आइडिया शेयर हो सकें।

17 हजार शिक्षकों में तीन सौ विदेशी : गुरुकुल पेज से अब तक करीब 17000 शिक्षक जुड़ चुके हैं। इनमें तमाम राज्यों के साथ-साथ अमेरिका, दुबई, हांगकांग, ऑस्ट्रेलिया समेत कई अन्य देशांे के शिक्षक शामिल हैं। विदेशी शिक्षकों की संख्या करीब तीन सौ तक पहुंच चुकी है। वे सभी ऑनलाइन गुरुकुल पर शिक्षा में सुधार के लिए किए गए कार्य, नवीन तकनीकों, विधाओं, शैक्षिक नवाचारों एवं रचनात्मक कार्यो को शेयर करते हैं, जिसमें वीडियो, ऑडियो, खबरें, नोट्स आदि शामिल हैं। गुरुकुल पीएलसी से कई ऐसे शिक्षक भी जुड़े हैं, जो बेसिक स्कूलों में भी कॉन्वेंट जैसी शिक्षा देने के लिए पहचाने जाते हैं।
विदेशियों को प्रभावित कर रहे बेसिक के शिक्षक : जिले में ऑनलाइन गुरुकुल के सदस्य अक्सर कुछ सुधार करते हैं। शिक्षा में नए सुधारों को जब फेसबुक, यूट्यूब और वेबसाइट पर शेयर करते हैं तो देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी तमाम शिक्षक प्रभावित होकर सराहना करते हैं।