अंतरजनपदीय स्थानांतरण की आस लगाए लगभग तीन सौ शिक्षकों के सत्यापन निरस्त - SARKARI RESULT | सरकारी रिजल्ट UP | SARKARI RESULT IN HINDI | SARKARI RESULT UP

26 February, 2018

अंतरजनपदीय स्थानांतरण की आस लगाए लगभग तीन सौ शिक्षकों के सत्यापन निरस्त

अंतरजनपदीय स्थानांतरण की आस लगाए लगभग तीन सौ शिक्षकों के सत्यापन निरस्त:-

अंतरजनपदीय स्थानांतरण की आस लगाए लगभग तीन सौ शिक्षक व शिक्षिकाओं को स्थानांतरण सूची आने से पहले ही झटका लगा है। दरअसल इनके ऑन लाइन आवेदन सत्यापन के दौरान बीएसए स्तर से ही निरस्त कर दिए गए हैं। हालांकि विभाग के पास निरस्त सत्यापन की वास्तविक सूची उपलब्ध नहीं है। 1अपनों से दूर दूसरे जिले में नौकरी करने वाले ऐसे शिक्षक जो पांच वर्ष की सेवा पूरी कर चुके थे, वह अंतरजनपदीय स्थानांतरण के लिए ऑनलाइन आवेदन के पात्र थे। जबकि प्रोवेशन पीरियड पूरी कर चुकी शिक्षिकाएं अंतरजनपदीय स्थानांतरण के लिए आवेदन कर चुकी थी। आवेदन के बाद दो दिन तक चली काउंिसलिंग में 2248 शिक्षक व शिक्षिकाओं ने हिस्सा लिया था। इसके पश्चात विभाग ने आवेदनों का सत्यापन किया तो तमाम शिक्षक व शिक्षिकाओं ने आवेदन करने की वजह का प्रमाण पत्र ही वैध दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किया था। सत्यापन के दौरान गंभीर व असाध्य रोग से पीड़ित होने का जिक्र आवेदन के दौरान तो किया था लेकिन सीएमओ द्वारा जारी प्रमाण पत्र ही प्रस्तुत नहीं किया था। सामान्य डॉक्टर से बीमार का पर्चा प्रस्तुत करने वाले आवेदन भी निरस्त कर दिए गए हैं। जिन शिक्षिकाओं ने दूर के परिजन व रिश्तेदार की गंभीर बीमारी का प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया था उनके आवेदन भी निरस्त कर दिए गए। बीएसए अजय कुमार ने बताया कि सत्यापन की प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है। लगभग तीन सैकड़ा आवेदन निरस्त किए गए हैं। स्थानांतरण पर सचिव का निर्देश का अनुपालन कराया जाएगा।संवादसूत्र, सीतापुर : अंतरजनपदीय स्थानांतरण की आस लगाए लगभग तीन सौ शिक्षक व शिक्षिकाओं को स्थानांतरण सूची आने से पहले ही झटका लगा है। दरअसल इनके ऑन लाइन आवेदन सत्यापन के दौरान बीएसए स्तर से ही निरस्त कर दिए गए हैं। हालांकि विभाग के पास निरस्त सत्यापन की वास्तविक सूची उपलब्ध नहीं है। 1अपनों से दूर दूसरे जिले में नौकरी करने वाले ऐसे शिक्षक जो पांच वर्ष की सेवा पूरी कर चुके थे, वह अंतरजनपदीय स्थानांतरण के लिए ऑनलाइन आवेदन के पात्र थे। जबकि प्रोवेशन पीरियड पूरी कर चुकी शिक्षिकाएं अंतरजनपदीय स्थानांतरण के लिए आवेदन कर चुकी थी। आवेदन के बाद दो दिन तक चली काउंिसलिंग में 2248 शिक्षक व शिक्षिकाओं ने हिस्सा लिया था। इसके पश्चात विभाग ने आवेदनों का सत्यापन किया तो तमाम शिक्षक व शिक्षिकाओं ने आवेदन करने की वजह का प्रमाण पत्र ही वैध दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किया था। सत्यापन के दौरान गंभीर व असाध्य रोग से पीड़ित होने का जिक्र आवेदन के दौरान तो किया था लेकिन सीएमओ द्वारा जारी प्रमाण पत्र ही प्रस्तुत नहीं किया था। सामान्य डॉक्टर से बीमार का पर्चा प्रस्तुत करने वाले आवेदन भी निरस्त कर दिए गए हैं। जिन शिक्षिकाओं ने दूर के परिजन व रिश्तेदार की गंभीर बीमारी का प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया था उनके आवेदन भी निरस्त कर दिए गए। बीएसए अजय कुमार ने बताया कि सत्यापन की प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है। लगभग तीन सैकड़ा आवेदन निरस्त किए गए हैं। स्थानांतरण पर सचिव का निर्देश का अनुपालन कराया जाएगा।